About Dr. Kunjan

kunjanacharyaपन्द्रंह साल प्रिन्ट और इलेक्ट्रोनिक मीडिया में काम करने के बाद अब मोहनलाल सुखाडिया विश्वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग में असिस्टेंट प्रोफेसर एवं प्रभारी के पद पर कार्यरत। 1996 से अनवरत पत्रकारिता। पहले प्रिन्ट और फिर इलेक्ट्रोनिक मीडिया में कार्य। मीडिया में कार्य करते हुए ही सर्जनात्मक पत्रकारिता पर पीएच डी की। सृजन पथ पर चलने की अभिलाषा बचपन से ही शुरु हो गई। पहली रचना पांचवी कक्षा में लिखी और वह स्थानीय दैनिक समाचार पत्र में प्रकाशित हुई। तब से अब तक शताधिक कविताएं और फीचर देश भर की पत्र पत्रिकाओं में प्रकाशित। पहला कविता-संग्रह 1999 में “एक टुकडा आसमान” के नाम से प्रकाशित हुआ, जिसे सन 2000 में राजस्थान साहित्य अकादमी के “सुमनेश जोशी पुरस्कार” के लिए चुना गया। 1995 में कविता और सर्जनात्मक लेखन के लिए महाराणा मेवाड फाउंडेशन का “महाराणा राजसिंह पुरस्कार”, 1995 में राजस्थान साहित्य अकादमी का “चन्द्रदेव शर्मा युवा कवि पुरस्कार” और 1992 में इम्पिटस संस्थान, उदयपुर की ओर से “मुक्तक भानावत कविता सम्मान” से पुरस्कृत।

सम्पर्क

Email : [email protected]

One Reply to “About Dr. Kunjan”

  1. Mr. Kunjan It was pleasure meeting you in inaugural function of SARTHI by vipra foundation today. It was really inspiring and I could found you at same wavelength of thoughts Hopefully our common area of interest i.e. writing, media production, art appreciation etc. will bring us new collaborative programs in near future.

    would like to hear your views..

    regards

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *